Home एजुकेशन इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस में जुटे देश—विदेश के टाउन प्लानर व आर्किटेक्ट, प्रस्तुत किए...

इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस में जुटे देश—विदेश के टाउन प्लानर व आर्किटेक्ट, प्रस्तुत किए जा रहे हैं 125 रिसर्च पेपर

67
0
International conference organized in Poornima University
Google search engine

जयपुर/दिव्य राष्ट्र। पूर्णिमा यूनिवर्सिटी के फैकल्टी ऑफ प्लानिंग एंड आर्किटेक्चर की ओर से ‘इन्क्लूसिव, रिजिल्यंट एंड सस्टेनेबल ह्यूमन सेटलमेंट्स’ विषय पर तीन दिवसीय इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस और नॉलेज सीरीज आयोजित की जा रही है। काउंसिल ऑफ आर्किटेक्चर ट्रेनिंग एंड रिसर्च सेंटर—भोपाल के सहयोग से और जयपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड द्वारा प्रायोजित इस कॉन्फ्रेंस के तहत पांच ट्रेक में 125 रिसर्च पेपर प्रस्तुत किए जा रहे हैं।

काउंसिल ऑफ आर्किटेक्चर के प्रेसिडेंट प्रो. आर्किटेक्ट अभय विनायक पुरोहित इसके उद्घाटन समारोह के मुख्य अतिथि थे, जबकि इंस्टीट्यूट ऑफ टाउन प्लानर्स इंडिया के प्रेसिडेंट एन.के. पटेल, जयपुर हेरिटेज नगर निगम के आयुक्त व जयपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड के सीईओ अभिषेक सुराणा, इंस्टीट्यूट ऑफ टाउन प्लानर्स इंडिया के काउंसिल सदस्य प्रदीप कपूर, सेंट्रल यूनिवर्सिटी राजस्थान के प्रोफेसर डॉ. नीरज गुप्ता, इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ आर्किटेक्ट्स—राजस्थान चैप्टर के प्रेसिडेंट आर्किटेक्ट तुषार सोगानी, और सीओए टीआरसी, भोपाल के डायरेक्टर डॉ. नवनीत मुनोथ गेस्ट ऑफ ऑनर थे। इस अवसर पर मेजबान पूर्णिमा यूनिवर्सिटी के प्रेसिडेंट डॉ. सुरेश चंद्र पाढ़ी, प्रो—प्रेसिडेंट डॉ. मनोज गुप्ता, यूनिवर्सिटी के को—फाउंडर राहुल सिंघी, रजिस्ट्रार डॉ. चांदनी कृपलानी, एफपीए की डीन आर्किटेक्ट मंजरी राय तथा देश—विदेश के कई प्रतिष्ठित टाउन प्लानर व आर्किटेक्ट उपस्थित थे।

मुख्य अतिथि प्रो. आर्किटेक्ट अभय विनायक पुरोहित ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट के लिए हर व्यक्ति को अपना योगदान देने की बात कही। उन्होंने बताया कि हमें अर्थ के नहीं, बल्कि स्वयं के सर्वाइवल की बात करनी चाहिए। उन्होंने इस तरह की कॉन्फ्रेंस से जो निष्कर्ष निकलते हैं, उन्हें दैनिक जीवन में भी अपनाया जाना चाहिए। एन.के. पटेल ने वर्तमान दौर में टाउन प्लानर्स की भूमिका व जिम्मेदारियों को रेखांकित किया। अभिषेक सुराणा ने जयपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड द्वारा किए जा रहे प्रोजेक्ट्स की जानकारी देते हुए बताया कि हेरिटेज लुक को बरकरार रखते हुए किस प्रकार शहर को आधुनिक बनाया जा रहा है। प्रदीप कपूर ने बताया कि आईटीपीआई स्टूडेंट्स के लिए किस प्रकार फायदेमंद साबित हो सकता है। उन्होंने पूर्णिमा यूनिवर्सिटी को भी इससे जुड़ने की अपील की।

डॉ. नीरज गुप्ता और तुषार सोगानी ने इस प्रकार के आयोजनों की महत्ता और इनसे सीख लेने की बात कही। डॉ. नवनीत मुनोथ ने सीओए टीआरसी, भोपाल की नई पहलों के बारे में बताया। कॉन्फ्रेंस के उद्घाटन समारोह के बाद ‘सस्टेनेबल ह्यूमन सेटलमेंट विद रेस्पेक्ट टू सिटीज ऑफ पास्ट’ विषय पर पैनल डिस्कशन आयोजित किया गया।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here