Home चुनाव लोकसभा चुनाव एक्जिट पोल 2024 में प्राप्त आंकड़े कितने सटीक

लोकसभा चुनाव एक्जिट पोल 2024 में प्राप्त आंकड़े कितने सटीक

53
0
Google search engine

(दिव्यराष्ट्र के लिए डॉ. राकेश वशिष्ठ)

जयपुर, दिव्यराष्ट्र/ विश्व के सबसे बड़े लोकतांत्रिक राष्ट्र भारत मैं संवैधानिक लोकसभा चुनावो के तहत 18 वीं लोकसभा के गठन के लिए 543 सीटों पर सात चरणों में वोटिंग हुई. भारत के निर्वाचन आयोग द्वारा 4 जून को लोकसभा चुनाव के नतीजे घोषित किए जाएंगे. इससे पहले 1 जून को अंतिम दौर का मतदान पूरा होते ही एग्जिट पोल्स के नतीजों की बाढ़ आनी शुरू हो गई अलग अलग टीवी चैनल समाचार पत्रों और एजेंसियों के अलग अलग आंकड़े आना शुरू हो गए हैं एक्जिट पोल का तात्पर्य है मतदान के बाद मतदाताओं से दिव्यराष्ट्र रिपोर्टर की हुई बातचीत के प्राप्त रुझानों के आधार पर तय किया जाने वाला डाटा होता है जिसके आधार पर विश्लेषण कर एक्जिट पोल के आंकड़े तैयार किए जाते हैं यह जरुरी नहीं की वो आंकड़े सटीक हो किंतु पिछले 3 लोकसभा चुनावों में हुए सर्वेक्षण को यदि आधार मानें तो साल 2014 और 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान एग्जिट पोल में मोदी सरकार के बहुमत से आने की भाविष्यवाणाी की गई थी। देश में सी-वोटर, एक्सिस माई इंडिया, सीएनएक्स भारत समेत कई एजेंसियां एग्जिट पोल करती हैं।

अगर हम एक्जिट पोल अनुमानों की प्रामाणिकता और सटीकता की बात करेंगे इसके पहले नजर डालते हैं इस बार के लोकसभा चुनाव और एक्जिट पोल द्वारा प्राप्त आंकड़ों पर इस बार के लोकसभा चुनावों में गिरता हुआ मतदान का प्रतिशत भारतीय चुनाव आयोग और भारत सरकार द्वारा अत्यंत चिंता का विषय है इसके पीछे के कारणों पर चिंतन करना आवश्यक है क्या भीषण गर्मी में हुए चुनाव इसका कारण है या फिर राजनैतिक दलों और भारतीय राजनीति में हुए घटना क्रम इसका कारण है बरहाल मैं समझता हूं मतदान जनता का संवैधानिक अधिकार है अपनी पसंद का नेता चुनने का विकल्प है अगर कोई नेता पसंद नहीं तो भी आपके पास नोटा दबाने का विकल्प चुनाव आयोग ने दिया है लेकिन मतदान अवश्य करें। लोकतंत्र के इस महायज्ञ में हम सभी को अपने अपने मतदान रूपी आहुतियां अवश्य डालनी चाहिए।

आइए जानते हैं इस बार के एग्जिट पोल में किस राज्य में किस पार्टी को कितनी सीटें मिल रही हैं. एग्जिट पोल में फिर एक बार NDA की सरकार बनती दिख रही है. देश की 543 लोकसभा सीटों पर हुए मतदान के बाद अब एग्जिट पोल के नतीजे साफ हो गए हैं. इस एग्जिट पोल के मुताबिक NDA को 361-401, INDIA को 131-166 और अन्य को 8-20 सीटें मिलने का अनुमान है. वहीं कर्नाटक में NDA को 20-22 सीटें तो वहीं INDIA ब्लॉक को 3-5 सीटें मिल सकती हैं. वहीं, JDS को 3 सीटें मिली हैं। राज्य में लोकसभा की कुल 28 सीटें हैं. अगर केरल की बात करें तो केरल में NDA को 2-3 सीटें मिलने जा रही हैं। वहीं, कांग्रेस को 13-14 सीटें मिलती दिख रही हैं. इसके अलावा UDF+ को 4 सीटें तो LDF को 0-1 सीटें मिलने जा रही हैं. इस आंकड़े के मुताबिक, भाजपा का केरल में खाता खुलता दिखाई दे रहा है। वहीं अगर राजस्थान की बात करें तो राजस्थान में लोकसभा की 25 सीटों हैं. इसमें NDA को 51 फीसदी वोट मिलता नजर आ रहा है तो वहीं INDIA को 41% वोट मिलता दिख रहा है. सीट की बात करें तो NDA को 16-19 सीटें मिलती दिख रही हैं, इसके अलावा INDIA को 5-7 सीटें मिल रही हैं।

वहीं महाराष्ट्र में इस बार महाराष्ट्र की 48 सीटों के लिए NDA के पक्ष में 46 फीसदी वोट डाले गए. वहीं इंडिया गठबंधन का वोट शेयर 43 फीसदी रहा. इसके अलावा सीट शेयरिंग की बात करें तो NDA को 28-32 सीटें मिलने का अनुमान है. इसके अलावा INDIA ब्लॉक को 16-20 सीटें मिलने का अनुमान है। अगर बात पंजाब की बात की जाए तो पंजाब में NDA को 2-4 सीटें मिल सकती हैं. वहीं, 13 सीटों वाले इस राज्य में INDIA को 7-9 सीटें मिल सकती हैं. इस राज्य में कांग्रेस और AAP अलग-अलग चुनाव लड़ रहे हैं. ऐसे में AAP को 0-2 सीटें मिलने का अनुमान है. वहीं, शिरोमणि अकाली दल को 2-3 सीटें मिलती दिख रही हैं। वहीं छत्तीसगढ़ में NDA को 10-11 सीटें मिलने का अनुमान है तो वहीं INDIA को 0-1 सीट मिलती दिख रही है. बता दें कि राज्य में 11 लोकसभा सीटें हैं।

अगर बात हरियाली की करें तो इस बार हरियाणा की 10 सीटों में से भाजपा को 6-7 सीटें मिल सकती हैं. एग्जिट पोल के आंकड़ों के मुताबिक, भाजपा को 6-8 तो कांग्रेस को 2-4 सीटें मिल सकती हैं।
धरती के स्वर्ग कहे जाने वाले कश्मीर घाटी में धारा 370 हटने के बाद आम जनता का सरकार प्रशासन के प्रति विश्वास बढ़ा है जिसका सबूत वहां हुई इस बार के लोकसभा चुनावों बंपर वोटिंग है एग्जिट पोल में NDA को 0-2 सीटें तो वहीं INDIA को 0-3 सीटें मिल सकती हैं।
वहीं एग्जिट पोल के मुताबिक, असम में NDA को 10-12 और इंडिया को 2-4 सीटें मिल सकती हैं। वहीं अगर हम उत्तरप्रदेश की बात करें तो योगी आदित्यनाथ महाराज की शासन प्रणाली लॉ एंड आर्डर सटीक कानून व्यवस्था से आम जनता प्रभावित है और इस बार उसका असर भी चुनावों में दिखा है उत्तर प्रदेश में इस बार NDA के पक्ष में 49 फीसदी वोट पड़ा है.

वहीं इंडिया गठबंधन के पक्ष में 39 फीसदी वोट पड़ा है. सीट शेयरिंग के आंकड़े पर नजर डालें तो NDA को 67-72 सीटें मिल सकती हैं. इसके अलावा इंडिया को 8-12 सीटें मिलने का अनुमान है. वहीं मायावती की बसपा की बात करें तो 0-1 सीट का अनुमान जताया जा रहा है। वहीं तेलंगाना मैं भाजपा इस बार अपना कमल खिलाने में खासी कामयाब होती दिखाई दे रही है आंकड़ों के मुताबिक तेलंगाना में NDA को 43 फीसदी वोट शेयर मिला है. वहीं INDIA को 39 फीसदी वोट शेयर मिला है. सीट शेयरिंग की बात करें तो NDA को 11-12 सीटें मिलने का अनुमान है. इसके अलावा INDIA गठबंधन को 4-6 सीटें मिलने का अनुमान है।

इसी तरह उत्तराखंड में NDA को 60 फीसदी वोट शेयर मिलता दिख रहा है, तो वहीं 35 फीसदी वोट INDIA को मिल सकता है. इसके अलावा सीटों की बात करें तो सभी 5 सीटें भाजपा को मिलती दिख रही हैं।

वही इस बार बंगाल में लगता है मोदी का जादू चलता दिख रहा है खेला होबे बंगाल में इस बार यदि प्राप्त आंकड़ों की बात करें तो पश्चिम बंगाल की 42 सीटों पर NDA के वोट शेयर की बात करें तो 46% रहा, वहीं TMC के वोट शेयर की बात करें तो 40 फीसदी वोट तृणमूल के पक्ष में डाले गए हैं. राज्य में इंडिया गठबंधन में सहमित नहीं बन सकी थी.

TMC और कांग्रेस ने अलग-अलग चुनाव लड़ा था. बंगाल में बीजेपी को 26 से 31 और टीएमसी को 11 से 14 सीटें मिलने का अनुमान है। वही ओडिसा की बात करें तो इस बार ओडिशा की 21 सीटों पर नजर डालें तो NDA को 51 फीसदी वोट शेयर मिलता दिख रहा है. तो वहीं INDIA को 13 फीसदी वोट मिल रहा है. ओडिशा में बीजेपी को 18 से 20 और बीजू जनता दल को 0 से 2 सीटें मिल सकती हैं। वही आंध्र प्रदेश में NDA को 53 फीसदी वोट शेयर मिलता दिख रहा है तो वहीं INDIA को 4 फीसदी वोट मिल सकता है. इसके अलावा सीटों की बात करें तो 21-23 सीटें NDA को मिल सकती हैं. तो वहीं INDIA को इस राज्य में खाली हाथ रहना होगा।

वहीं इस बार के प्राप्त आंकड़ों के मुताबिक इस बार तमिलनाडु के एग्जिट पोल में NDA को 2-4 सीटें मिलने जा रही हैं तो वहीं INDIA को 33-37 सीटें मिलती दिखाई दे रही हैं. INDIA गठबंधन में भी कांग्रेस को 13-15 तो DMK को 20-22 सीटें मिलने का अनुमान हैं. AIADMK को राज्य में 0-2 सीटें मिल रही हैं. बता दें कि राज्य में लोकसभा की 39 सीटें हैं। बात अगर बिहार की की जाए तो तेजस्वी और राहुल की जोड़ी लगभग फेल होती दिख रही है इस बार बिहार में INDIA गठबंधन को 48 फीसदी वोट मिलने का अनुमान है.

राज्य की 40 सीटों में से NDA को 29-33 सीटें मिल सकती हैं. इसके अलावा 0-2 सीटें अन्य के खाते में जा रही हैं। वहीं देश की राजधानी देश का दिल दिल्ली में इस बार मोदी का जादू चल रहा है और केजरीवाल का जादू उतर गया है देश की राजधानी दिल्ली में प्राप्त आंकड़ों के मुताबिक BJP को 6-7 सीटें मिल सकती हैं और INDIA को 0-1 सीट मिल सकती है। वही बात अगर गुजरात की की जाए तो इस बार गुजरात में NDA को 63 फीसदी और INDIA को 33 फीसदी वोट शेयर मिला है. सीट के हिसाब से बात करें तो NDA को 25-26 और INDIA को 0-1 सीट मिलने का अनुमान है. गुजरात में लोकसभा की 26 सीटें हैं, जिसमें से सूरत सीट पर चुनाव नहीं हुआ क्योंकि भाजपा के उम्मीदवार ने निर्विरोध ही यह चुनाव जीत लिया है।

वही इस बार एग्जिट पोल के मुताबिक, झारखंड में NDA को 8-10 सीटें मिलने का अनुमान है. वहीं, INDIA गठबंधन को 4-5 सीटें मिल सकती हैं. 14 सीटों वाले राज्य में भाजपा+ को नुकसान दिख रहा है। और वही एक्जिट पोल के मुताबिक गोवा में NDA को 52 फीसदी वोट मिलता दिख रहा है तो वहीं 43 फीसदी वोट INDIA को मिल सकती है. इसके अलावा सीट शेयरिंग की बात करें तो 2 में से 1-1 सीटें दोनों दलों के खाते में जाते दिख रही हैं।
मध्यप्रदेश से प्राप्त आंकड़ों के अनुसार मध्य प्रदेश में INDIA को 33 फीसदी वोट मिलने जा रहे हैं. सीट की बात करें तो 29 सीटों वाले राज्य में NDA को 28-29 सीट मिल सकती हैं.

इसके अलावा INDIA को 0-1 सीट मिलने का अनुमान है। वही एक्जिट पोल के अनुसार चंडीगढ़ में इस बार कांग्रेस की जीत हो सकती है. यहां से अब तक बीजेपी की किरण खेर सांसद थीं. इस बार यहां से कांग्रेस के मनीष तिवारी चुनाव जीत सकते हैं। वहीं असम की 14 लोकसभा सीटों में से 9 से 11 बीजेपी के खाते में जाने का अनुमान है. कांग्रेस को 2 से 4 सीटें मिल सकती है. जबकि, अन्य पार्टियां दो सीटों पर चुनाव जीत सकती हैं। जम्मू-कश्मीर की 5 सीटों में से तीन पर इंडिया ब्लॉक की जीत हो सकती है। दो सीटें बीजेपी को मिलती दिखाई दे रही हैं। वहीं त्रिपुरा की दोनों सीटें एनडीए के पास जाने का अनुमान है।

चुनावी प्रक्रिया संपन्न होने के बाद अलग-अलग न्जूज चैनल और एजेंसियों ने शनिवार को एग्जिट पोल भी जारी कर दिया। कम से कम तीन एग्जिल पोल ऐसे हैं जिनमें पीएम मोदी की भविष्यवाणी सच होती लग रही है। ज्यादातर एग्जिट पोल में एनडीए को जबरदस्त बहुमत दिया गया है। इस हिसाब से एक बार फिर एनडीए की सरकार बनने वाली है। 4 दिनों से चल रही चुनावी प्रक्रिया के बाद 4 जून को मतगणना होगी और परिणाम घोषित किए जाएंगे। हालांकि इससे पहले एग्जिट पोल में देश के मूड का अंदाजा लग गया है। एबीपी सी वोटर ने भी एनडीए के लिए 353 से 383 सीटों का अनुमान लगाया है। वहीं एनडीटीवी के महापोल में एनडीए को 357 जीतें दी गई हैं। स्कूल ऑफ पॉलिटिक्स और इंडिया टीवी के एग्जिट पोल में एनडीए को 400 पार बताया गया है।

रिपब्लिक भारत ने एनडीए को 353 से 365 सीटें मिलने का अनुमान लगाया है। वहीं इंडिया गठबंधन 133 सीटों के आसपास सिमट सकता है। इसके अलावा इंडिया टीवी ने भी एनडीए को 371 सीटें मिलने का अनुमान लगाया है। स्कूल ऑफ पॉलिटिक्स के सर्वे में एनडीए 400 का आंकड़ा पार कर रहा है। 2019 के लोकसभा चुनाव की बात करें तो बीजेपी के खाते में 303 सीटें थीं। एनडीए ने 253 सीटें हासिल की थीं। वहीं कांग्रेस को केवल 52 सीटों पर जीत हासिल हो सकी थी। टीएमसी को 22 सीटों पर जीत मिली थी। जेडीयू को 16 सीटें और समाजवादी पार्टी को मात्र पांच सीटें मिली थीं। बीएसपी को यूपी में 10 सीटों पर जीत हासिल हुई थी।

एग्जिट पोल सही साबित हुए तो बीजेपी 2019 वाली जीत दोहरा सकती है। बरहाल अंतिम फैसला ईवीएम मशीन में जनता जनार्दन ने पहले ही दे दिया है जो कि 4 जून को मतगणना में पता लगेगा कौन नेता कितने पानी में है जनता से बढ़कर कोई नहीं जनता यह देखना अत्यंत दिलचस्प होगा किसकी सरकार बनेगी और कितनी सीट के आंकड़ों के साथ और एक्जिट पोल कितने सटीक चुनावो का विश्लेषण करते हैं।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here