Home Fashion शेयर बाजार में गिरावट निवेश का अवसर: सोर्भ गुप्ता

शेयर बाजार में गिरावट निवेश का अवसर: सोर्भ गुप्ता

41
0
Google search engine

दिव्यराष्ट्र, जयपुर: हाल ही में बजाज फिनसर्व एएमसी इक्विटी के सीनियर फंड मैनेजर सोर्भ गुप्ता के साथ एक साक्षात्कार में उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि इक्विटी मार्केट हमेशा ऊपर की ओर नहीं जाते हैं। गुप्ता ने कहा, अस्थिरता अंतर्निहित है। मार्केट्स में गिरावटें होती हैं जिन्हें इन्वेस्टमेंट के अवसरों के रूप में देखा जाना चाहिए। वर्तमान समय को देखते हुए, उन्होंने चेतावनी दी कि मार्केट में अस्थिरता बनी रह सकती है, फिर भी गुप्ता ने इस बात की सिफारिश की कि रिटेल निवेशकों को सावधानीपूर्वक इन्वेस्टमेंट करने के लिए इस फेज़ का लाभ उठाना चाहिए। उन्होंने अस्थिरता से जुड़े जोखिमों को कम करने की रणनीति के रूप में मल्टी एसेट एलोकेशन फंड में विविधता लाने और अन्य एसेट क्लासेस की खोज करने का सुझाव दिया।

हाल की गवर्मेंट पॉलिसीज पर विचार करते हुए, गुप्ता ने पिछले एक दशक में सप्लाई पक्ष पर एक प्रमुख जोर दिया जो की कोविड-19 महामारी के दौरान भारत को अन्य अर्थव्यवस्थाओं से अलग करता है। हालांकि, वह उम्मीद करते हैं कि आगामी चुनावी दबाव और गठबंधन की गतिशीलता से डिमांड-साइड पॉलिसीज या पाप्युलिस्ट उपायों में संभावित बदलाव हो सकते हैं।

क्षेत्रीय संभावनाओं पर चर्चा करते हुए, गुप्ता ने निवेशकों को सलाह दी कि वे शॉर्ट-टर्म मार्केट में उतार-चढ़ाव के बजाय लॉन्ग-टर्म ग्रोथ सेक्टर्स को प्राथमिकता दें। उन्होंने कहा, ग्रामीण और उपभोग क्षेत्रों पर सरकार का ध्यान विकास को बढ़ावा देने की संभावना है। उन्होंने एफएमसीजी, दोपहिया वाहन, ट्रैक्टर और रिटेल एवं फाइनेंस में ग्रामीण केंद्रित व्यवसायों जैसे संभावित लाभार्थियों पर प्रकाश डाला और इन क्षेत्रों में संभावित आय के बढ़ने की भविष्यवाणी की है। आईटी सेक्टर पर, गुप्ता ने घरेलू राजनीतिक परिवर्तनों के लिए अपने लचीलापन का उल्लेख किया लेकिन आगामी अमेरिकी चुनावों के आसपास नजदीकी अस्थिरता के बारे में चेतावनी भी दी।

गुप्ता ने रेगुलेटरी सपोर्ट प्राप्त करने वाले सेक्टर्स पर श्मेक इन इंडियाश् जैसी पहलों के प्रभाव का विश्लेषण किया, जिसने उनके प्रदर्शन को बढ़ावा दिया। उन्होंने सुझाव दिया कि भविष्य में बजट आवंटन खपत की ओर बढ़ सकता है, जिससे आर्थिक प्राथमिकताओं के विकास के साथ पब्लिक सेक्टर अन्डरटेकिंग  के वैल्यूशन पर संभावित रूप से प्रभाव पड़ सकता है। निवेशकों को सलाह देते हुए गुप्ता ने मार्केट में उतार-चढ़ाव के बीच संयम बनाए रखने के महत्व पर जोर दिया। उन्होंने सलाह दी, जल्दी निर्णय लेने से बचें, उन्होंने व्यक्तिगत जोखिम सहनशीलता और फाइनेंशियल गोल्स के अनुरूप विविध एसेट एलोकेशन की सिफारिस भी की।

फ़ॉरेन निवेशकों के विचारों की ओर देखते हुए, गुप्ता ने मजबूत आर्थिक मूलभूतताओं द्वारा संचालित भारत की लॉन्ग टर्म ग्रोथ की संभावनाओं के बारे में अपनी आशा व्यक्त की है। उन्होंने कहा, अल्पकालिक उतार-चढ़ाव के बावजूद, भारत एक आकर्षक गंतव्य बना हुआ है, उन्होंने कहा कि भारत की ग्रोथ स्टोरी पर फ़ॉरेन इंस्टीटयूशनल निवेशक की नई रुचि लेने की भविष्यवाणी की गई है। क्योंकि उनमें मौके से चूक जाने का डर  है।

इन्वेस्टमेंट रणनीति के साथ समाप्त करते हुए गुप्ता ने मेगाट्रेंड और गुणवत्ता वाली कंपनियों में अच्छी तरह से विविधतापूर्ण इक्विटी पोर्टफोलियो की सिफारिश की। उन्होंने मार्केट की अनिश्चितताओं के बीच धन संचय के लिए एक विवेकपूर्ण दृष्टिकोण के रूप में लॉन्ग-टर्म होरिजॉन के साथ सीस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान का समर्थन किया। इस तरह, सोर्भ गुप्ता की अंतर्दृष्टि ने आज के वित्तीय परिदृश्य की जटिलताओं से निपटने में रणनीतिक दूरदर्शिता और अनुशासित निवेश के महत्व को रेखांकित किया, तथा अनुभवी निवेशकों और नए निवेशकों दोनों के लिए मार्गदर्शन की एक किरण को प्रस्तुत किया।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here