Home बिजनेस भारत की राष्ट्रपति ने डॉ. सीताराम जिंदल को प्रतिष्ठित पद्म भूषण पुरस्कार...

भारत की राष्ट्रपति ने डॉ. सीताराम जिंदल को प्रतिष्ठित पद्म भूषण पुरस्कार से किया सम्मानित

70
0
Google search engine

नई दिल्ली, 24 अप्रैल 2024: परोपकार और स्वास्थ्य सेवा के दूरदर्शी अग्रदूत डॉ. सीताराम जिंदल को सोमवार को नई दिल्ली में राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति ने प्रतिष्ठित पद्म भूषण पुरस्कार से सम्मानित किया। प्रधानमंत्री और विशिष्ट गणमान्य व्यक्तियों की उपस्थिति में यह समारोह समाज में डॉ. जिंदल के असाधारण योगदान को मान्यता देने वाला एक महत्वपूर्ण अवसर बन गया।

12 सितंबर 1932 को हरियाणा के शांत गांव नलवा में जन्मे डॉ. सीताराम जिंदल की यात्रा किसी प्रेरणा से कम नहीं है। जिंदल एल्युमीनियम लिमिटेड (जेएएल) के संस्थापक अध्यक्ष के रूप में उनकी उद्यमशीलता कौशल ने भारत की सबसे बड़े एल्युमीनियम एक्सट्रूजन निर्माता बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। जिंदल कारोबार से परे तक सोचते हैं। उनका योगदान एस जिंदल चैरिटेबल फाउंडेशन, कई ट्रस्टों, अस्पतालों, स्कूलों और कॉलेजों की स्थापना तक फैला हुआ है, जो मानव मात्र की सेवा के प्रति उनके अटूट समर्पण की बानगी है।

डॉ. जिंदल की शैक्षणिक गतिविधियां उन्हें कलकत्ता विश्वविद्यालय ले गईं, जहां उन्होंने 1957 में स्नातक की डिग्री हासिल की, उसके बाद प्राकृतिक चिकित्सा में डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की। उनके कॉलेज के दिनों के दौरान उन्होंने उपवास, एनीमा और योग के माध्यम से पेट की तपेदिक की लाइलाज स्थिति पर काबू पाया। इस बदलावकारी अनुभव ने दवा रहित उपचार के लिए उनके जुनून को प्रज्वलित किया। इस जुनून की परिणति 1979 में बेंगलूरु में जिंदल नेचरक्योर इंस्टीट्यूट (जेएनआई) की स्थापना के रूप में हुई, जिसने तीव्र और पुरानी बीमारियों के इलाज में अपने मानवीय दृष्टिकोण के लिए वैश्विक सराहना हासिल की है। उस समय प्रचलित पारंपरिक प्राकृतिक उपचारों के विपरीत डॉ. जिंदल ने इस उपेक्षित विज्ञान को आधुनिक बनाने और नया करने के मिशन पर काम शुरू किया।

डॉ. जिंदल के दूरदर्शी नेतृत्व में जेएनआई एक विश्व स्तरीय सुविधा बन गई है जो अस्थमा और मधुमेह से लेकर गठिया और यहां तक कि कैंसर के कुछ प्रकारों सहित विभिन्न बीमारियों के सफल उपचार में विशेषज्ञता रखती है। साल भर 550 पूर्ण रूप से भरे रहने वाले बिस्तरों के साथ यह संस्थान दुनिया भर में दवा-मुक्त विकल्प चाहने वालों के लिए आशा की किरण के रूप में कार्य करता है। डॉ. जिंदल का अभूतपूर्व योगदान ‘डिटॉक्सिफिकेशन’के आविष्कार और शुरुआत में निहित है, एक अत्यधिक प्रभावी दवा रहित प्रक्रिया है जो वैज्ञानिक और सुरक्षित रूप से शरीर में विभिन्न प्रणालियों की सफाई करती है। इस नवाचार ने कई बीमारियों की रोकथाम और इलाज के लिए निवारक देखभाल में क्रांति ला दी है।

डॉ. जिंदल को पूर्व प्रधानमंत्रियों जैसे श्री अटल बिहारी वाजपेयी, श्री चन्द्रशेखर, श्री आई.के. गुजराल, और  श्री देव लालजी, श्री रामकृष्ण हेगड़े, कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री सहित प्रख्यात हस्तियों से सराहना मिली है। जेएनआई में मरीजों के रूप में उनके व्यक्तिगत अनुभव डॉ. जिंदल के मार्गदर्शन में संस्थान के क्रांतिकारी प्रभाव को रेखांकित करते हैं।

जेएएल द्वारा उदारतापूर्वक वित्त पोषित एस. जिंदल चैरिटेबल फाउंडेशन, परोपकार के प्रति डॉ. जिंदल की अटूट प्रतिबद्धता का प्रमाण है। फाउंडेशन उनकी धर्मार्थ पहलों के लिए एक वित्तीय स्तंभ रहा है, जो बाहरी समर्थन मांगे बिना विभिन्न ट्रस्टों, अस्पतालों, स्कूलों और कॉलेजों का सहयोग करता है। सामाजिक सरोकार के प्रति डॉ. जिंदल का समर्पण छात्रवृत्ति के माध्यम से हजारों वंचित विद्यार्थियों की सहायता करने और वंचित लोगों की सेवा के लिए प्रतिबद्ध कई गैर सरकारी संगठनों का समर्थन करने से भी प्रमाणित होता है।

निवारक देखभाल के प्रति डॉ. जिंदल की प्रतिबद्धता उनके इस विश्वास से मेल खाती है कि प्राकृतिक चिकित्सा एलोपैथिक अस्पतालों पर बोझ को कम कर सकती है, जिससे विश्व स्तर पर लाखों लोगों के जीवन में बदलाव आ सकता है। डॉ. जिंदल का अभूतपूर्व योगदान स्वास्थ्य सेवा और परोपकार से परे है, विशेष रूप से सरकार द्वारा कॉर्पोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व (सीएसआर) योजना शुरू करने में जिंदले  की भूमिका प्रशंसनीय रही है। 15 वर्षों से अधिक समय से चले आ रहे उनके कठोर प्रयास और लगातार बेहतर करने लिए चल रहा संघर्ष, सामाजिक सुधार के उनके निरंतर प्रयास को उजागर करता है।

संक्षेप में, डॉ. सीताराम जिंदल के स्वास्थ्य सेवा, परोपकार और सामाजिक सुधारों में अद्वितीय योगदान ने एक अमिट छाप छोड़ी है, जिससे वे भारत के इतिहास में एक प्रतिष्ठित व्यक्ति बन गए हैं। उन्होंने कभी भी नाम, प्रसिद्धि, पद और धन संचय की इच्छा नहीं की। वह साधारण जीवन में विश्वास करते हैं, फिजूलखर्ची में नहीं।

डॉ. जिंदल को पद्म भूषण पुरस्कार मिलना उनकी जीवन भर की उपलब्धियों के लिए एक उपयुक्त सम्मान है, जो एक दूरदर्शी और अग्रणी शख्स, परोपकारी और सुधारक के रूप में उनकी विरासत को रेखांकित करता है। वैश्विक स्तर पर लाखों लोगों को प्रेरित करना जारी रखते हुए डॉ. जिंदल अपने विश्वास पर दृढ़ हैं कि प्राकृतिक चिकित्सा एलोपैथिक अस्पतालों पर बोझ को कम कर सकती है, जीवन को बदल सकती है और एक स्वस्थ, अधिक बेहतर दुनिया को बढ़ावा दे सकती है।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here