Home बिजनेस बीएलएस इंटरनेशनल केआईडाटा अधिग्रहण को तुर्की रेगुलेटरी नॉड की मंज़ूरी मिली

बीएलएस इंटरनेशनल केआईडाटा अधिग्रहण को तुर्की रेगुलेटरी नॉड की मंज़ूरी मिली

41
0
Google search engine

दिव्यराष्ट्र, मुंबई: गवर्नमेंट्स और सिटीज़न के लिए लीडिंग ग्लोबल टेक-इनेबल्ड सर्विसेज़ पार्टनर, बीएलएस इंटरनेशनल सर्विसेज लिमिटेड ने घोषणा की है कि आईडाटा अधिग्रहण के लिए तुर्की रेगुलेटरी अथॉरिटी से आवश्यक मंज़ूरी अब मिल गई है। इस प्रकार, बीएलएस एफजेडई और इसकी सहायक कंपनी द्वारा आईडाटा (iData) का अधिग्रहण अब 20 जुलाई, 2024 तक पूरा होने की उम्मीद है।

जनवरी 2024 में, कंपनी ने घोषणा की थी कि उसने अधिग्रहण के लिए अपनी पूर्ण स्वामित्व वाली सब्सिडयरी बीएलएस इंटरनेशनल एफजेडई, यूएई के माध्यम से iData Danismanlik Ve Hizmet Dis Ticaret Anonim Sirketi (“iDATA”) और इसकी पूर्ण स्वामित्व वाली सब्सिडयरी में 100% हिस्सेदारी के द्वारा 50 मिलियन यूरो (450 करोड़ रुपये) की एंटरप्राइज वैल्यू और अतिरिक्त माइलस्टोन बेस्ड पेमेंट के लिए एक निश्चित शेयर परचेज़ एग्रीमेंट (एसपीए) में प्रवेश किया है।

आईडाटा, तुर्की में स्थित एक प्रोमिनेन्ट प्लेयर, जो वीज़ा और कांसुलर सेवाओं में विशेषज्ञता रखता है और इसे बीएलएस के एक्सपेंडिंग पोर्टफोलियो में एक स्ट्रेटिजिक एडिशन बनाता है।

तुर्की में इनकॉरपोरेटेड, आईडाटा विभिन्न सरकारों को व्यापक वीज़ा आवेदन और कांसुलर सेवाएं प्रदान करता है। कंपनी वर्तमान में 15 से अधिक देशों में 37 से अधिक वीज़ा एप्लीकेशन सेंटर (वीएसी) संचालित करती है, जो जर्मनी, इटली और चेक गणराज्य के डिप्लोमेटिक मिशन्स को सेवा प्रदान करती है। विशेष रूप से, आईडाटा 2006 से इटली डिप्लोमेटिक मिशन्स और 2012 से कुछ जियोग्राफिक्स में जर्मन सरकार के लिए वीज़ा और कांसुलर सेवाओं का एक्सक्लूसिव प्रोवाइडर रहा है। कैलेंडर वर्ष 2022 के लिए ऑडिटेड कंसोलिडेटेड फाइनेंशियल्स के अनुसार, आईडाटा ने 19.9 मिलियन यूरो (180 करोड़ रुपये) का रेवेन्यू और 10.4 मिलियन यूरो (94 करोड़ रुपये) का एबिटा (EBITDA) प्राप्त किया।

अधिग्रहण को मुख्य रूप से कंपनी के आंतरिक संसाधनों के माध्यम से वित्त पोषित किया जाएगा।

प्राइसवाटरहाउसकूपर्स (पीडब्ल्यूसी), तुर्की और लैग्रेंज प्वाइंट एडवाइजर्स एलएलपी, मुंबई ने संयुक्त रूप से इस ट्रांजैक्शन पर बीएलएस के लेन-देन सलाहकार के रूप में काम किया। साथ ही डेंटन्स लिंक लीगल, भारत और बाल्सियोग्लु सेल्कुक अर्दियोक केकी अटॉर्नी पार्टनरशिप (BASEAK), तुर्की ने भी लेन-देन के लिए कानूनी सलाहकार के रूप में काम किया।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here