Home बिजनेस ट्रांस फैट फ्री और यूरोपीय सुरक्षा नियमों का अनुपालन करने वाला कुकिंग...

ट्रांस फैट फ्री और यूरोपीय सुरक्षा नियमों का अनुपालन करने वाला कुकिंग आयल ही है सही

76
0
Google search engine

जयपुर: यदि अब तक आप एफएसएसएआई का लाल और काले रंग का ट्रांस फैट फ्री का लोगो देख कर अपना खाना पकाने के तेल का चयन कर रहे थे तो आप एक जागरूक ग्राहक हैं अब इसी जागरूकता को एक कदम और आगे लेकर जाने की जरूरत है। हाल ही में खाद्य तेलों में पाए जाने वाले कुछ और हानिकारक पदार्थों का पता चला है। जी हाँ, 3-एमसीपीडी और जीई नामक दो हानिकारक पदार्थ हैं, जो खाद्य तेलों में हो सकते हैं। जानवरों पर किए गए अध्ययनों से पता चला है कि सहनीय सीमा से ऊपर 3-एमसीपीडी और जीई के नियमित सेवन से किडनी और पुरुष प्रजनन अंगों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। कोडेक्स ने इन पदार्थों को कार्सिनोजेनिक भी घोषित किया है। इसीलिए,  हाल ही में,  यूरोप ने खाने के तेलों में इन पदार्थों की सीमाएँ तय की हैं। भारत के जाने-माने डाक्टरों ने भी इस पर अपनी राय रखी है।

फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट, गुरुग्राम के हेमेटोलॉजी और बोन मैरो ट्रांसप्लांट के प्रधान निदेशक डॉ. राहुल भार्गव ने कहा देश में कैंसर की बढ़ती घटनाओं के साथ, खाने के तेलों में पाए जाने वाले 3-एमसीपीडी और जीई जैसे कार्सिनोजेनिक केमिकल को संबोधित करने की तत्काल आवश्यकता है। क्योंकि तेल में मौजूद ये प्रदूषक लंबे समय में कैंसर का कारण बन सकते हैं। यूरोप ने सीमाएँ निर्धारित करके सक्रिय रुख अपनाया है और अब भारत के लिए भी ऐसा करने का समय आ गया है। भारत में कैंसर की बढ़ती घटनाओं और खाना पकाने के तेलों के व्यापक उपयोग को देखते हुए, एफ.एस.एस.ए.आई को भी हमारे देश में इन नियमों को लाने के लिए कदम उठाने चाहिए। उपभोक्ताओं को खाना पकाने के तेलों के लिए स्वस्थ और सुरक्षित विकल्प चुनने के लिए सशक्त बनाने के लिए लेबल पर 3-एमसीपीडी और जीई सीमाओं का अनुपालन प्रदर्शित करना महत्वपूर्ण है

डॉ. सुशीला कटारिया, निदेशक, इंटरनल मेडिसिन, मेदांता गुरुग्राम ने कहा खाना पकाने के तेलों में 3-एमसीपीडी और जीई नामक हानिकरक पदार्थों पर ग्राहक को जागरूक होना चाहिए। यूरोपीय संघ ने उपभोक्ताओं की सुरक्षा और स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए पहले ही अधिकतम सीमाएँ निर्धारित कर दी हैं। 3-एमसीपीडी और जीई का लगातार सेवन करने से किडनी की क्षति और विभिन्न कैंसर सहित गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं जुड़ी हैं। भारत में सरकारी अधिकारियों को भी खाद्य तेलों में इन दूषित पदार्थों को नियंत्रित करने और कम करने के लिए नियम बनाने चाहिए। अच्छे स्वास्थ्य के लिए, ऐसे खाना पकाने के तेल का चयन करना महत्वपूर्ण है जो 3-एमसीपीडी और जीई के यूरोपीय संघ के सुरक्षा नियमों के अनुरूप हो।

जैसे भारत ने ट्रांस फैट को नियंत्रित करने में प्रगति की है, 3-एमसीपीडी और जीई  को भी नियंत्रित करने के लिए ठोस कदम उठाने की जरूरत है । भारत को इन प्रदूषकों पर यूरोपीय खाद्य सुरक्षा प्राधिकरण के दिशानिर्देशों के अनुरूप होना चाहिए। यह संरेखण सुनिश्चित करेगा  कि भारत में निर्मित और इस्तेमाल किया जाने वाला प्रत्येक खाना पकाने का तेल स्पष्ट रूप से 3-एमसीपीडी और जीई के संबंध में यूरोपीय खाद्य सुरक्षा मानकों का अनुपालन करेगा, जो भारतीयों के स्वास्थ्य और सुरक्षा के अनुरूप होगा।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here