Home बिजनेस भारत के सबसे बड़े क्रिप्टो एक्सचेंज कॉइनडीसीएक्स ने मैना क्षेत्र के क्रिप्टो...

भारत के सबसे बड़े क्रिप्टो एक्सचेंज कॉइनडीसीएक्स ने मैना क्षेत्र के क्रिप्टो लीडर बिटओएसिस का अधिग्रहण किया

21
0
Google search engine

• मैना बाजार में प्रवेश: मध्य पूर्व और लैटिन अमेरिकी बाजार में कॉइनडीसीएक्स का प्रवेश इसकी अंतर्राष्ट्रीय विस्तार योजना में पहला कदम ।

नई दिल्ली: दिव्यराष्ट्र/भारत के सबसे बड़े क्रिप्टो एक्सचेंज कॉइनडीसीएक्स ने बिटओसिस के अधिग्रहण की घोषणा की है। बिटओसिस मिडल ईस्टब और उत्तरी अफ्रीका का अग्रणी वर्चुअल एसेट्स ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म है। इस प्लेटफॉर्म पर अमीराती दिरहम में सबसे अधिक ट्रेडिंग वॉल्यूम होती है। कॉइनडीसीएक्स ने पहले अगस्त 2023 में बिटओसिस में रणनीतिक निवेश किया था।

दो मार्केट लीडर्स का एक साथ आना मिडल ईस्टअ और उत्तरी अमेरिकी (एमईएनए) क्षेत्र में अपनी तरह का पहला और व्यापक बदलाव लाने वाला सौदा है। किंगडम ऑफ बहरीन में कंपनी के नए खरीदे गए लाइसेंस और दुबई में अपने प्लेटफॉर्म को हाल ही में फिर से खोलने के साथ, इस अधिग्रहण से बिटओसिस मैना क्षेत्र में वर्चुअल एसेट्स इकोसिस्टम में अग्रणी कंपनी के रूप में अपनी उपस्थिति मजबूत करेगा और अपना दायरा बढ़ाएगा, जो कई बाजारों में लाइसेंस आधारित और रेगुलेटेड है।

2018 में स्थापित, कॉइनडीसीएक्स भारत में सबसे पसंदीदा एक्सचेंज है, जिसके पास 15 मिलियन से अधिक यूजर्स हैं। 500 से ज्यादा क्रिप्टो एसेट्स तक पहुंच देने और 2024 में स्पॉट में 840 मिलियन अमेरिकी डॉलर से ज्यादा की औसत तिमाही ट्रेडिंग वॉल्यूम की सुविधा देते हुए कॉइनडीसीएक्स ने पूरे भारत में क्रिप्टो को लोकप्रिय बनाने में बेहद अहम भूमिका निभाई है। अपने सहज और यूजर अनुकूल इंटरफेस के साथ कॉइनडीसीएक्स ने निवेश के अनुभव को आसान बनाया है, जिससे यह सभी स्तरों की विशेषज्ञता वाले यूजर्स के लिए सुलभता से उपलब्ध है। यह भारत में पहला वर्चुअल एसेट्स एक्सचेंज है, जिसने एफआईयू आईएनडी के साथ पंजीकरण किया है, और सख्तस केवाईसी मानदंडों के जरिए पारदर्शिता बनाए रखी है।

कॉइनडीसीएक्स के को-फाउंडर नीरज खंडेलवाल ने कहा, “छह साल की सफलता और 15 मिलियन से ज़्यादा भारतीयों को उनकी क्रिप्टो यात्रा में सहायता देकर, कॉइनडीसीएक्स का लक्ष्य दुनिया भर में क्रिप्टो के लिए सबसे पसंदीदा ट्रेडिंग प्लेटफ़ॉर्म बनना है। हमारे लिए, निवेशकों की सुरक्षा सबसे महत्वकपूर्ण है, और हमने भारत में नियमों का मजबूती से पालन करने के साथ खुद को स्थापित किया है। हम जहां भी काम करते हैं, वहां समान मानकों को बनाए रखने के लिए प्रतिबद्ध हैं। यह सिद्धांत हमें आगे दिशा देता रहेगा क्योंकि हम नए बाज़ारों और अवसरों पर आगे बढ़ रहे हैं। मजबूत बाजार और क्रिप्टो परिसंपत्ति में निवेश के प्रति आकर्षण को देखते हुए हमारी विस्तार रणनीति मैना क्षेत्र से शुरू होती है।”

2016 में ओला डौडिन, तारेक कायलानी और डैनियल रोबेनेक द्वारा स्थापित, बिटओसिस जीसीसी और व्यापक मध्य पूर्व और उत्तरी अमेरिकी क्षेत्र में खुदरा, संस्थागत और हाई नेट वर्थ वाले व्यक्तियों के लिए एईडी, एसएआर और यूएसडी जैसी फ़िएट मुद्राओं के साथ 60 से अधिक टोकन खरीदने, बेचने और रखने के लिए जाने-माने प्लेटफ़ॉर्म के रूप में उभरा है। स्थापना के बाद से, कंपनी ने 6 बिलियन डॉलर से अधिक ट्रेडिंग वॉल्यूम को प्रॉसेस कर प्रमुख क्षेत्रीय और वैश्विक निवेशकों से 40 मिलियन डॉलर से अधिक का फंड जुटाया है।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here