Home बिजनेस एफआरएआई ने संसद में आवाज बनने के लिए प्रवीण खंडेलवाल को समर्थन...

एफआरएआई ने संसद में आवाज बनने के लिए प्रवीण खंडेलवाल को समर्थन दिया

59
0
Google search engine

नई दिल्ली: 42 रिटेल एसोसिएशन की सदस्यता के साथ देशभर के लगभग 80 लाख सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम खुदरा विक्रेताओं के प्रतिनिधि निकायफेडरेशन ऑफ रिटेलर एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एफआरएआई) ने चांदनी चौक लोकसभा क्षेत्र से भाजपा के उम्मीदवार प्रवीण खंडेलवाल का समर्थन करने के लिए आज नई दिल्ली में एक कार्यक्रम आयोजित किया। एफआरएआई नेखंडेलवाल का समर्थन किया है, ताकि वह भारतीय संसद में अपने रिटेलर्स के हितों को सामने रख सके।

एफआरएआई से जबरदस्त समर्थन मिलने पर श्री प्रवीण खंडेलवाल ने हार्दिक आभार व्यक्त करते हुए कहा, मेरी उम्मीदवारी और मेरा समर्थन करने के लिए एफआरएआई और इसके हजारों सदस्यों के अपार प्यार एवं एकजुटता का मैं आभारी हूं। यह चुनाव सिर्फ लोकसभा में एक सीट सुरक्षित करने के बारे में नहीं है, बल्कि यह उन लोगों के जीवन में प्रभावशाली बदलाव लाने में सक्षम होने के बारे में है जिनका मैं प्रतिनिधित्व करूंगा। हमारा दृष्टिकोण हमारे सम्मानित प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदीजी के नेतृत्व में एक समृद्ध विकसित भारत बनाना है, जिसमें रिटेलर्स एवं व्यापारियों सहित समाज का हर वर्ग प्रगति कर रहा है और उनकी चिंताओं को दूर किया जा रहा है। मैं अपने रिटेलर्स और व्यापारी भाइयों एवं बहनों के हितों की पूरे दिल से वकालत करने की प्रतिज्ञा करता हूं, क्योंकि इस कार्य के लिए मैं दशकों से प्रयासरत हूं। एक बार चुने जाने के बाद मैं उनकी आवाज बनूंगा और उनकी चिंताओं को लोकसभा में उठाऊंगा।”

अभय राज मिश्रा, राष्ट्रीय प्रवक्ता, एफआरएआई और राष्ट्रीय समन्वयक, इंडियन सेलर्स कलेक्टिव ने कहा, “हमें विश्वास है कि प्रवीण खंडेलवाल लोकसभा में हमारे मुद्दों को उठाने के लिए सबसे सही व्यक्ति हैं। हम सभी साथी रिटेलर्स से उनकी उम्मीदवारी का समर्थन करने का आग्रह करते हैं क्योंकि वहवर्षों से अथक रूप से हमारे हितों की वकालत कर रहे हैं। हम सबका साथ, सबका विकास में विश्वास करते हैं और हमें विश्वास है कि उनके नेतृत्व में, खुदरा विक्रेताओं और व्यापारियों का हमारा समुदाय राष्ट्र निर्माण में शानदार योगदान देगा और साथ ही देश की समृद्ध यात्रा का हिस्सा बनेगा।”

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here