Home बिजनेस कुमाऊनी भाषा के प्रचार के लिए नई ऐप “स्पीक कुमाऊनी” का शुभारंभ

कुमाऊनी भाषा के प्रचार के लिए नई ऐप “स्पीक कुमाऊनी” का शुभारंभ

31
0
Google search engine

नई दिल्ली, 06 जुलाई, 2024: – कुमाऊनी भाषा सिखाने के लिए डिज़ाइन की गई एक नई वेबसाइट और ऐप “स्पीक कुमाऊनी” का आधिकारिक रूप से शुभारंभ किया गया। यह प्लेटफ़ॉर्म कुमाऊनी भाषा की पढ़ाई और उच्चारण को सरल तरीके से सिखाने का एक तरीका प्रदान करता है, जो तमिल, तेलुगु, कन्नड़, मराठी, बंगाली, उर्दू, पंजाबी, गुजराती, हिंदी और अंग्रेजी सहित दस भारतीय भाषाओं में उपलब्ध है।

‘स्पीक कुमाऊनी’ के विकास का श्रेय डॉ. आर. के. ठुकराल को जाता है, जो रुद्रपुर के एक पंजाबी मूल निवासी हैं और जिन्होंने कुमाऊं विश्वविद्यालय, नैनीताल से अर्थशास्त्र में पीएचडी की है। डॉ. ठुकराल, जो दिल्ली में 24 साल पुरानी एक आईटीईएस कंपनी के संस्थापक-निदेशक भी हैं, नैनीताल जिले के गांव मनाघेर-सुंदरखाल में भी निवास करते हैं। विशेष रूप से, यह वेबसाइट और ऐप पूरी तरह से मुफ्त में उपलब्ध है।

इस प्लेटफ़ॉर्म के लिए सामग्री हल्द्वानी स्थित शिक्षाविद, संगीतकार और कुमाऊनी लोक विशेषज्ञ हेम हरबोला द्वारा लिखी गई पुस्तक “कुमाऊनी पहाड़ी बोली” से ली गई है। उत्तराखंड ओपन यूनिवर्सिटी के ‘हैलो हल्द्वानी’ की रेडियो पत्रकार सुनीता भास्कर ने कुमाऊनी वॉयसओवर प्रदान किया है, जबकि अन्य दस भाषाओं के ऑडियो एआई तकनीक द्वारा उत्पन्न किए गए हैं। कुमाऊं डिवीजन के विभिन्न व्यक्तियों और संस्थानों ने इस परियोजना को विशेष समर्थन दिया है।

पिछले सप्ताह, डॉ. ठुकराल ने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर  सिंह धामी को उत्तराखंड सदन, नई दिल्ली में यह ऐप प्रस्तुत किया। मुख्यमंत्री धामी ने  मुफ्त में ऐप उपलब्ध कराने के लिए डॉ. ठुकराल की पहल की सराहना की। उन्होंने उम्मीद जताई कि यह ऐप पर्यटकों, यात्रियों और अन्य राज्यों में रहने वाले कुमाऊनी युवाओं को लाभान्वित करेगा और कुमाऊनी भाषा के प्रचार और प्रसार को मजबूत करेगा।

प्रमुख हस्तियों जैसे कि कुमाऊं भाषा, साहित्य और संस्कृति समिति, नई दिल्ली के महासचिव सुरेंद्र सिंह रावत, अल्मोड़ा से प्रकाशित कुमाऊनी मासिक पत्रिका के संपादक डॉ. हयात सिंह रावत, पिथौरागढ़ से प्रकाशित कुमाऊनी मासिक “अदली कुशली” की संपादक डॉ. सरस्वती कोहली, नैनीताल जिले से प्रकाशित कुमाऊनी मासिक “कुमगढ़” के संपादक दामोदर जोशी, नई दिल्ली से प्रकाशित कुमाऊनी त्रैमासिक “दुदबोली” के संपादक चारु तिवारी, क्रिएटिव उत्तराखंड और किताब कौतिक के संयोजक हेम पंत, हिमांशु पाठक और दयाल पांडे, कुमाऊनी लोकगायक जोड़ी गोविंद डिगारी और खुशी जोशी, कुमाऊं गढ़वाल चैंबर ऑफ कॉमर्स के पूर्व अध्यक्ष राजीव घई, बिज़नेस उत्तरायणी के नीरज बिवारी सहित अन्य स्थानीय गणमान्य व्यक्तियों और संस्थानों ने कुमाऊनी भाषा के प्रचार के लिए डॉ. ठुकराल के प्रयासों की सराहना की है।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here